गुरुवार, 29 जनवरी 2009

आतंकवाद और हम भारत के लोग


[प्रणाम]

समूची दुनिया में हमारे मुल्क ने आतंक की भयावह त्रासदी को जितना अधिक झेला है , उतना शायद विश्व के किसी और देश ने इस पीड़ा को नही झेला है । आतंकवाद की समस्या समूची सभ्यता के लिए एक बड़ी चुनौती बनती जा रही है । वास्तव में अब ये वक्त आ गया है कि समूची दुनिया सभ्यता के इस बड़े खतरे के खिलाफ एकजुट हो कर लड़े ।

दरअसल , आतंक की समस्या और इससे लड़ने में हमरे तंत्र को नए सिरे से तैयारी करनी होगी क्योंकि हमारी सभ्यता का यह शत्रु हमसे अधिक चालाक है हमें उससे अधिक चतुर और चालाक बनना होगा ।

पिछले दिनों में अपने गाँव में था । एक मेट्रो सिटी में रहते हुए आतंक का डर मुझे किस कदर सताता है? मेरे मित्र का सवाल था । उसका कहना था बेशक छोटे गाँव में ये हमले नही होते लेकिन कहीं न कहीं ये खतरा आतंक का भय गाँव में रहते हुए उनको भी उतना ही सताता है ।

यकीनन आतंक किसी भूगोल विशेष में नही पनपता है। आतंक का यह भय हमें भीतर तक उद्देव्लित कर रहा है ।
ज़रा याद कीजिए मुंबई पर आतंकी हमले के बाद ...आवाम का दर्द खुलकर उभर कर सामने आया । आम जनता का भरोसा तंत्र से उठा ?

लेकिन यह भी उतना ही सच है कि हमें अपनी लोकतात्रिक आस्था और विश्ववास को हर चुनौती में हर हाल में जिंदा रखना होगा । हमारे गणतंत्र का साठवे वर्ष में सफलता के साथ प्रवेश उप महाद्वीप में हमारी लोकतान्त्रिक आस्था और विश्वास का परिचय है । दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में हम भारत के लोगो को जाना जाता है । इसलिए भी हमें आतंक को मुँहतोड़ जवाब देकर अपनी लोकतात्रिक आस्था मान्यताओ का सर हमेशा ऊंचा रखना होगा ।

कोई भी आतंकी इतना बड़ा नही जो हमें जीवन की जय बोलने से रोक सके
हमारा हौसला परस्पर विशवास ही हमारी असली ताक़त है , और अपने गणतंत्र को गुणी व्यवस्था का रूप देकर गुणतंत्र में बदलना हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है । उल्टा तीर पत्रिका का यह अंक इसी भावना के साथ आप सभी को सादर अर्पित है।

बेचते हैं लोग बड़े शौक़ से मुफ़लिसी

भारत की गरीबी दुनिया के दुसरे मुल्को में कई बार बेची जाती हैआज भी दुनिया के अमीर देशों में लोगो की यह मानसिकता है कि भारत एक पिछड़ा हुआ देश हैजिस गरीब की गरीबी को बेचकर दौलतमंद और अधिक दौलतमंद हो जाते हैंवो गरीब सिर्फ़ गरीबी पर अपने आँसू बहा सकता हैगरीबी सिर्फ़ अमीरों से बेची जा सकती है! गरीब के हिस्से सिर्फ़ मुफ़लिसी है"उल्टा तीर" के संपादक "अमित के सागर" ने यही दर्द अपनी कलम से व्यक्त किया



[अमित के सागर]

-
बेचते हैं लोग बड़े शौक़ से मुफ़लिसी

बिकती नहीं मग़र मुफ़लिसों से कभी

नाचते हैं गाते हैं मनाते हैं ख़ुशी सभी
गरीबी के सौदागर हैं जो इल्म से धनी

गरीब बेचने भी ग़र गरीबी को निकलें
सारे बाज़ार में कोई खरीदता नहीं

बच्चे भूँख से मर जाएँ ये बात नई नहीं
बेचकर कोई इन्हें मग़र रौशनी करता कहीं

रोतों को देखकर लग जाते हैं जो रोने
ऐसा दिल गरीबी का कि रोए सागर भी
-



संगठित हों, बुराई के ख़िलाफ़ ताकत बनें,
एक-दूसरे के साथ हों, महफूज़ हर कदम चलें
[संपादक उल्टा तीर]

बुधवार, 28 जनवरी 2009

आतंकवाद पर ओशो के विचार

भारत की आध्यत्मिक धारा में एक क्रन्तिकारी प्रवाह का नाम है आचार्य रजनीश ओशो ने हमेशा समय से आगे की बात की है उनकी दृष्टि में आतंक की समस्या का गहरा सम्बन्ध हमारे अन्तर्मन से से अवचेतन से हैवर्ष १९८६ में उरुग्वे में दिए एक प्रवचन में ओशो ने आतंकवाद की समस्या के विषय में विचार व्यक्त किए जिसे हम आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं ...


Everything is deeply related with everything else that happens. The event of terrorism is certainly related with what is happening in the society. The society is falling apart. Its old order, discipline, morality, religion, everything has been found to be wrongly based. It has lost its power over people’s conscience.

Terrorism simply symbolizes that to destroy human beings does not matter, that there is nothing in human beings which is indestructible, that it is all matter—and you cannot kill matter, you can only change its form. Once man is taken to be only a combination of matter, and no place is given for a spiritual being inside him, then to kill becomes just play.

The nations are irrelevant because of nuclear weapons. If the whole world can be destroyed together within minutes the alternative can only be that the whole world should be together. Now it cannot remain divided; its division is dangerous, because division can become war any moment. The division cannot be tolerated.

Only one war is enough to destroy everything, and there is not much time left for man to understand that we should create a world where the very possibility of war does not exist.

Terrorism has many undercurrents. One is that because of nuclear weapons, the nations are pouring their energy into that field, thinking that the old weapons are out of date. They are out of date, but individuals can start using them. And you cannot use nuclear weapons against individuals—that would be simply stupid. One individual terrorist throws a bomb—it does not justify that a nuclear missile should be sent.

What I want to emphasize is that the nuclear weapon has given individual people a certain freedom to use old weapons, a freedom which was not possible in the old days because the governments were also using the same weapons. Now the governments are concentrated on destroying the old weapons, throwing them in the ocean, selling them to countries which are poor and cannot afford nuclear weapons.

And all those terrorists are coming from these poor countries, with the same weapons that have been sold to their countries. And they have a strange protection: you cannot use nuclear weapons against them, you cannot throw atom bombs at them. They can throw bombs at you and you are suddenly impotent.

You have a vast amount of atomic bombs, nuclear bombs in your hands -- but sometimes where a needle is useful, a sword may not be of any use. You may have the sword; that does not mean that you are necessarily in a superior position to the man who has a needle, because there are purposes in which only the needle will work — the sword will not be of any use.

Those small weapons from the old times were piling up, and the big powers had to dispose of them—either drown them in the ocean.... That meant so much money, so much manpower, so much energy had gone to waste; economically it was disastrous. But just to go on piling them up was also economically impossible. How many weapons can you gather? There is a limit. And when you get a new way of killing people more efficiently, then the old simply has to be got rid of. It was thought that it would be better to sell them to poor countries.

Poor countries cannot create nuclear weapons—it costs too much. And these weapons were coming cheap—as help; they accepted it, but these weapons cannot be used in a war. In a war these weapons are already useless. But nobody has seen the possibility that these weapons can be used individually, and a new phenomenon—terrorism -- can come out of it.

Now, a terrorist has a strange power, even over the greatest powers. He can throw bombs at the White House without any fear, because what you have is too big and you cannot throw it at him. And these are the weapons sold by you! But the phenomenon was not conceived of, because human psychology is not understood.

My understanding is that the way he has lived, man needs every ten to twelve years—a war.

He accumulates so much anger, so much rage, so much violence, that nothing short of a war will give him release. So, war after war, there is a gap of only ten to fifteen years. That gap is a kind of relaxation. But again you start accumulating, because the same psychology is working—the same jealousy, the same violence.

And man is basically a hunter; he is not by nature vegetarian. First he became a hunter, and for thousands of years he was just a meat-eater, and cannibalism was prevalent everywhere. To eat human beings caught from the opposing tribe you were fighting with was perfectly ethical. All that is carried in the unconscious of humanity.

Religions have imposed things on man very superficially; his unconscious is not in agreement.

Every man is living in a disagreement with himself. So whenever he can find a chance—for a beautiful cause; freedom, democracy, socialism—any beautiful word can become an umbrella to hide his ugly unconscious, which simply wants to destroy and enjoys destruction. Now the world war has become almost impossible; otherwise there would have been no terrorism.

Enough time has passed since the second world war; the third world war should have happened near about 1960. It has not happened. This has been the routine for the whole of history, and man is programmed for it.

It has been observed by psychologists that in wartime people are more happy than in peacetime. In wartime their life has a thrill; in peacetime they look bored. In wartime, early in the morning they are searching for the newspaper, listening to the radio. Things may be happening far away, but they are excited. Something in them feels an affinity.

A war that should have happened somewhere between 1955 and 1960 has not happened, and man is burdened with the desire to kill, with the desire to destroy. It is just that he wants good names for it.

Terrorism is going to become bigger and bigger, because the third world war is almost impossible. And the stupid politicians have no other alternative. Terrorism simply means that what was being done on a social scale now has to be done individually. It will grow.

It can only be prevented if we change the very base of human understanding—which is a Himalayan task; more so because these same people whom you want to change will fight you; they won’t allow you to change them easily. In fact they love bloodshed; they don’t have the courage to say so.

In one of the existentialist’s novels, there is a beautiful incident which can almost be said to be true.

A man is presented before the court because he has killed a stranger who was sitting on the beach. He had never seen the stranger. He did not kill him for money. He does not yet know how that man looked, because he killed him from the back, just with a big knife. They had never met—there was no question of enmity. They were not even familiar; they had not even seen each other’s faces.

The magistrate could not figure it out, and he asked the murderer, “Why did you do it?” He said, “When I stabbed that man with a knife, and a fountain of blood came out of his back, that was one of the most beautiful moments I have ever known. I know that the price will be my death, but I am ready to pay for it; it was worth it. My whole life I have lived in boredom – no excitement, no adventure. Finally I had to decide to do something. And this act has made me world famous; my picture is in every newspaper. And I am perfectly happy that I did it.”

There was no need for any evidence. The man was not denying—on the contrary, he was glorifying it. But the court has its own routine way—witnesses still have to be produced; just his word cannot be accepted. He may have be lying, he may not have killed the man. Nobody saw him—there was not a single eyewitness—so circumstantial evidences had to be presented by the police.

One of them was that possibly this man has killed according to his past life and his background. When he was young, his mother died. And when he heard that his mother had died, he said, “Shit! That woman will not leave me even while dying! It is Sunday, and I have booked tickets for the theatre with my girlfriend. But I knew she would do something to destroy my whole day—and she has destroyed it.”

His mother has died and he is saying that she has destroyed his Sunday! He was going to the theatre with his girlfriend, and now he has to go to the funeral.

And the people who heard his reaction were shocked. They said, “This is not right, what are you saying?” He said, “What? What is right and what is wrong? Couldn’t she die on any other day? There are seven days in the week—from Monday to Saturday, she could have died any day.

But you don’t know my mother—I know her. She is a bitch! She did it on purpose.”

The second evidence was that he attended the funeral, and in the evening he was found dancing with his girlfriend in a disco. And somebody asked, “What! What are you doing? Your mother has just died.” He said, “So what? Do you mean now I can never dance again? My mother is never going to be alive, she will remain dead; so what does it matter whether I dance after six hours, eight hours, eight months, eight years? What does it matter? -- she is dead. And I have to dance and I have to live and I have to love, in spite of her death. If everybody stopped living with the death of their mother, with the death of their father, then there would be no dance in the world, no song in the world.”

His logic is very right. He is saying, “Where do you draw the demarcation line? After how many hours can I dance? -- twelve hours, fourteen hours, six weeks? Where will you draw the line? on what grounds? What is the criterion? So it doesn’t matter. One thing is certain: whenever I dance I will be dancing after the death of my mother, so I decided to dance today. Why wait for tomorrow?”

Such circumstantial evidences are presented to the court—that this man is strange, he can do such an act.

But if you look closely at this poor man, you will not feel angry at him; you will feel very compassionate.

Now, it is not his fault that his mother has died; and anyway, he has to dance some day, so it makes no difference. You cannot blame this man for saying ugly things: “She deliberately died on Sunday to spoil my joy,” because his whole experience of life must have been that she was again and again spoiling any possibility of joy. This was the last conclusion: “Even in death she will not leave me.”

And you cannot condemn the man for killing a stranger... because he is not a thief; he did not take anything from him. He is not an enemy; he did not even see who was the man he was killing. He was simply bored with life and he wanted to do something that made him feel significant, important. He is happy that all the newspapers have his photo. If they had published his photo before, he would not have killed; but they waited—until he kills they will not publish his photo. And he wanted to be a celebrity... just ordinary human desires. And he was ready to pay with his life to become, at least for one day, known to the whole world, recognized by everybody.

Until we change the basic grounds of humanity, terrorism is going to become more and more a normal, everyday affair. It will happen in the airplanes, it will happen in the buses. It will start happening in the cars. It will start happening to strangers. Somebody will suddenly come and shoot you—not that you have done anything to him, but just, the hunter is back. The hunter was satisfied in the war.

Now the war has stopped and perhaps there is no possibility for it. The hunter is back; now we cannot fight collectively. Each individual has to do something to release his own steam. Things are interconnected.

The first thing that has to be changed is that man should be made more rejoicing—which all the religions have killed. The real criminals are not caught. These are the victims, the terrorists and other criminals. It is all the religions who are the real criminals , because they have destroyed all possibilities of rejoicing. They have destroyed the possibility of enjoying small things of life; they have condemned everything that nature provides you to make you happy, to make you feel excited, feel pleasant. They have taken everything away; and if they have not been able to take a few things away because they are so ingrained in your biology—like sex— they have at least been able to poison them.

Friedrich Nietzsche, according to me, is one of the greatest seers of the Western world; his eyes really go penetrating to the very root of a problem. But because others could not see it—their eyes were not so penetrating, nor was their intelligence so sharp—the man lived alone, abandoned, isolated, unloved, unrespected.

He says in one of his statements that man has been taught by religions to condemn sex, to renounce sex. Religion has not been able to manage it; and man has tried hard but has failed, because it is so deeply rooted in his biology—it constitutes his whole body. He is born out of sex—how can he get rid of it except by committing suicide? So man has tried, and religions have helped him to get rid of it—thousands of disciplines and strategies have been used. The total result is that sex is there, but poisoned.

That word poisoned is a tremendous insight. Religions have not been able to take it away, but they have been certainly successful in poisoning it. And the same is the situation about other things: religions are condemning your living in comfort. Now, a man who is living in comfort and luxury cannot become a terrorist. Religions have condemned riches, praised poverty; now, a man who is rich cannot be a terrorist.

Only the “blessed ones” who are poor can be terrorists—because they have nothing to lose, and they are boiling up against the whole of society because others have things they don’t have. Religions have been trying to console them.

But then came communism—a materialist religion—which provoked people and said to them, “Your old religions are all opium to the people, and it is not because of your evil actions in this life or in past lives that you are suffering poverty. It is because of the evil exploitation of the bourgeois, the super-rich that you are suffering.”

The last sentence in Karl Marx’s COMMUNIST MANIFESTO is:

Proletariats of the whole world unite; you have nothing to lose and you have the whole world to gain. “You are already poor, hungry, naked—so what can you lose? Your death will not make you more miserable than your life is making you. So why not take a chance and destroy those people who have taken everything away from you. And take those things back, distribute them.”

What religions have somehow been consoling people with—although it was wrong and it was cunning and it was a lie, but it kept people in a state of being half asleep—communism suddenly made them aware of.

That means this world is now never going to be peaceful if we don’t withdraw all the rotten ideas that have been implanted in man.

The first are the religions—their values should be removed so that man can smile again, can laugh again, can rejoice again, can be natural again. Second, what communism is saying has to be put clearly before the people—that it is psychologically wrong. You are falling from one trap into another.

No two men are equal; hence the idea of equality is nonsense. And if you decide to be equal then you have to accept a dictatorship of the proletariat. That means you have to lose your freedom. First the church took away your freedom, then God took away your freedom. Now communism replaces your church, and it will take away your freedom. And without freedom you cannot rejoice. You live in fear, not in joy.

If we can clean the basement of the human mind’s unconscious... and that’s what my work is.

It can be cleaned away. The terrorism is not in the bombs, in your hands; the terrorism is in your unconscious. Otherwise, this state of affairs is going to grow more bitter. And it seems all kinds of blind people have bombs in their hands and are throwing them at random.

The third world war would have released people for ten or, fifteen years. But the third world war cannot happen because if it happens it won’t relieve people, it will only destroy people. So individual violence will increase—it is increasing. And all your governments and all your religions will go on perpetuating the old strategies without understanding the new situation.

The new situation is that every human being needs to go through therapies, needs to understand his unconscious intentions, needs to go through meditations so that he can calm down, become cool—and look towards the world with a new perspective of silence.

(वर्ष १९८६ में उरुग्वे में दिए प्रवचन से )
(साभार http://.besthealth.com.au/oshoonterrorism.htm)

बिग बी के ब्लॉग से

अभिनेता और ब्लॉगर अमिताभ बच्चन ने मुंबई में हुए आतंकवादी हमले पर अपना दर्द संवेदना और गुस्से का इज़हार अपने ब्लॉग में किया


DAY 217

Prateeksha, Mumbai
November 26/27, 2008
1:23 am


MUMBAI UNDER TERRORIST ATTACK !! SEVERAL LOCATIONS BOMBED AND TERRORISTS FIRING ALL OVER THE CITY. MAJOR HOTELS UNDER SEIGE. TAJ HOTEL BATTLE GOING ON INSIDE THE HOTEL. MULTIPLE ACTION ON. ARMY CALLED OUT. OVER 60 REPORTED KILLED AND 120 INJURED. 7 OF THE POLICE KILLED.

TERRIBLE ! TERRIBLE SITUATION !


DAY 218

November 27, 2008 - 11:06 pm


THE SONG OF THE SENSIBLE

by Gorakh Pandey

What way the winds blow, I can understand

Why we show our backs to it, I can understand

I understand the meaning of blood

The value of money I understand

What is for and what is against, I can understand

I even understand this

We are scared to be able to understand, and remain silent.

I can understand the meaning of remaining quiet

When we speak we speak with thinking and understanding

The freedom to speak

Its meaning, I can understand

For a pathetic and measly employment

To sell our freedom, the meaning of that I can understand

But what can we do

When unemployment

Rises faster than the injustice

The dangers of freedom and unemployment, I understand

We narrowly escape the dangers of terror

I can understand

Why we escape and get saved, this too I can understand.

We remain disappointed and are pained by the Almighty if he does not just remain an imagination

We remain disappointed and are pained by the Government why it does not understand

We remain disappointed and pained by the common man because it succumbs to a herd mentality.

We remain pained by the pain of the entire world

I can understand

But how much we remain pained by this pain this too

I can understand

That opposition is the desired step to take

I can understand

At every step we make compromising understandings

I can understand

We make deep commitments for this understanding

Every deep commitment we present in ambiguous language

I can understand

The reason for this ambiguous language also

I understand.

Incidently, we do not consider ourselves

Less than anyone, I can understand

Every black to white

And white to black we are capable of converting

We are capable of creating a storm in a tea cup

If we want we can start a revolution also

If the Government is weak and the common man understanding

But I can understand

That there is nothing that we can do

Why there is nothing that we can do

This too I can understand.

The above a poem by poet Gorakh Pandey and my very inept translation. It was given to me by a journalist of a Hindi Daily, when he came to interview me on the occasion of my Father’s Birthday. My Father’s Birthday is today, November 27th. He would have been 101 years old.

The poet was a troubled human. Intelligent and anguished by the state of the nation. He had wanted to inspire with his writing and the strength of his thinking. When he failed he committed suicide. He was a brilliant student from the Benares Hindu University and later was with JNU - Jawaharlal Nehru University in Delhi.

The entire day has been spent in front of the TV and watching in anguish and in anger the proceedings on the streets of Mumbai. I have been riveted to Times Now and to the incredible anchoring of Arnab. He has been at it non stop for almost 24 hrs; reporting, discussing, interviewing, taking opinion, tirelessly.

My pain has been the sight and plight of my innocent and vulnerable and completely insecure countrymen, facing the wrath of this terror attack. And my anger has been at the ineptitude of the authorities that have been ordained to look after us. I have simply loved and endorsed the sentiments expressed by one of those that came on for comments on the Arnab reportage, Suhel Seth. They were strong, precise and most apt. And of course I have had the greatest pride in those from the forces that have and continue to fight for our freedom. Brilliant officers and police personnel have laid down their lives for us. I can only but salute them and respect their sincerity in the call of duty.

I have been at the receiving end of a million calls and an equal number of sms’s the whole day to come live on TV or on the print media to express my views on the current situation and am being lured by words such as ’we need you to speak to express solidarity and for the people to maintain their calm’.

This is disgusting !! I will NOT do that. TELL ME AND ORDER ME INSTEAD THAT WE REQUIRE FOR EVERY INDIAN TO GET UP AND WALK INTO THE FACILITIES WHERE THE ACTION IS ON AND I WILL BE THE FIRST TO WALK. But, please do not ask me to come and make sloppy statements that will do nothing more than create viewer interest in said particular channel ! I respect what the media is doing in serving the nation with its continuous information bulletins and I admire the brave and diligent manner in which they have devoted themselves to the cause. But what they expect me do I find against my ethics and want to be excused from it.

And for God’s sake, let us stop reiterating that cliched ”Sprit of Mumbai” retort. Yes Mumbai is strong and resilient and shall not be cowed down by any such occurrence. But let us not conveniently use it as our cover sheet, pull it over our heads and go off to sleep. Because that is what has been happening every time. Incidents of grave disaster have continued to be camouflaged with ‘oh, this is Mumbai, we have a great spirit, we will spring back’. Fine, we will, of course. But who is assuring us that the disaster will not !!

As an Indian, I need to live in my own land, on my own soil with dignity and without fear. And I need an assurance on that.

I am ashamed to say this and not afraid to share this now with the rest of the cyber world, that last night, as the events of the terror attack unfolded in front of me I did something for the first time and one that I had hoped never ever to be in a situation to do.

Before retiring for the night, I pulled out my licensed .32 revolver, loaded it and put it under my pillow. For a very disturbed sleep.

Amitabh Bachchan

नशे में धुत्त है घर का रखवाला : मनोज बाजपेयी

मायानगरी में आतंकवादी हमले ने समूचे देश को आहत कियाफ़िल्म अभिनेता और हिन्दी ब्लॉगर मनोज बाजपेयी ने अपने ब्लॉग में घर के रखवालों को नशे में धुत्त बताते हुए अपनी पीड़ा और दर्द का इज़हार कियामनोज बाजपेयी का यह लेख हम उनके ब्लॉग से आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं ...


इस वक़्त सिवाय क्रोध के कोई और भाव मन में नहीं आ रहा। क्या लिखें और क्या कहें, जो हुआ क्या वो रुक सकता था? वो ज़रुर रुक सकता था। क्या अब सब कुछ सही होगा? हमेशा की तरह सिर्फ़ उम्मीद कर सकते हैं। भरोसा तो अब रहा नहीं।

टेलीविज़न पर बहस शुरु हो चुकी है। अख़बारों में प्रतिक्रियाएँ और एडिटोरियल आना शुरु हो गए हैं। दान, चंदा और मदद देने की होड़ लग रही है। फिर से वही बीरबल के चोंचले। अब ये सब एक ऐसा चुटकुला लग रहा है, जो आप कई बार सुन चुके हैं और जिस पर अब हँसी भी नहीं आती। लोग गाजर-मूली की तरह मारे गए। लेकिन कुछ राजनीतिज्ञों के कान पर अभी भी जू नहीं रेंग रही है क्योंकि उनके घर का कोई नहीं मरा है, ये बात अब समझ में आ रही है। वो अब भी बयानबाज़ी कर रहे हैं क्योंकि वो ख़ुद सुरक्षा के घेरे में रहते हैं।

हम सबकी हालत आज ऐसी है कि हम अपने ही घर में चारदीवारी को लेकर चिंतित हैं। क्योंकि घर का रखवाला उस चारदीवारी पर बैठकर उसकी रक्षा करने की बजाय हम सबका मज़ाक उड़ाते हुए नशे में धुत है।

वो सारे दृश्य देखकर कितनी ही बार मन विचलित हुआ। और अब मैं सुन्न-सा बैठा हूँ। क्या मैं गर्व के साथ कह सकता हूँ कि मैं इस देश का नागरिक हूँ। जिस देश में किसी भी नागरिक की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी लेने को कोई तैयार नहीं। लोग ऐसे मरे और मारे गए जैसे रोज़ बकरे हलाल होते हैं। लानत है, लानत है, लानत है।

सिर्फ़ ग़ुस्सा है मेरे मन में। कोई शब्द नहीं सूझ रहे हैं। शायद ढंग की बात अगली पोस्ट में ही कर पाऊंगा। मेरी श्रद्धांजलि श्रीकांते, हेमंत करकरे और विजय सालस्कर, संदीप उन्नीकृष्णन और सिपाही गजेन्द्र को। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे और उनके परिवार को इस कठिन समय में शक्ति दे। मैं इस कठिन समय में चुप हूँ, ख़ामोश हूँ और यही प्रार्थना करता हूँ कि जो लोग इस हादसे में मारे गए भगवान उनकी आत्मा को सुकून दे। और उनके परिवार को भविष्य के लिए शक्ति दे।

अब सिर्फ़ एक वाक्य कि हमें इससे बहुत कुछ सीखना होगा।

आपका और आपका
मनोज बाजपेयी

(साभार : http://manojbajpayee.itzmyblog.com)

नौजवान शक्ति


[दीपक पंवार]

(१)
आतंकवादी भारत में आज ये पहली बार नहीं
आम इंसान शहीद-ए-महान अब हमारे साथ नहीं
आलस वश जो राजनीतिज्ञ सोये हैं
इन्हीं कारणों से हमने सैनिक महान खोए हैं
मुंबई का दुःख सहना हमें स्वीकार नहीं
आतंकवादी भारत में आज ये पहली बार नहीं

(२)
बम-धमाके भारत में उजड़ा आज सहरा है
हजारों सैनिक शहीद रोए जाने क्या देश हमरा बहरा है
जनता की परवाह नहीं नेता, घर कड़ा पहरा है
इतने जन मरे "आतंकवाद" भारत चरित्र पर ये दाग गहरा है
दिल्ली क्यों सहे आतंकवाद दुःख सिलसिलेवार नहीं
आतंकवादी भारत में आज ये पहली बार नहीं

(३)
रेल जहाज, मार्किट-शार्केट, सेफ जगह आज न कोई
देखमय रोते लोग, देख जोश में मैंने कुछ बंदूकें बोईं
चलो जवानों बढ़े चलो आज, "आतंकवाद" को नष्ट कर देंगे
मजहब हमारी सीमा नहीं, चलो धरती को स्वर्ग कर देंगे
मुंबई शहीदों को नमन हमारा, देशसेवा से बढ़ा रोजगार नहीं
आतंकवादी भारत में आज ये पहली बार नहीं

(४)
जेहाद के नाम पर लोग क्यों आतंकी बनते हैं
पाकिस्तान की धरती पर क्या बहशी ही पलते हैं
आतंकियों का घर है, फ़िर क्यों साँप को दूध पिलाते हैं
"दीपक" देख "गुरुमान" देश सेवा में तिरंगा कैसे लहराते हैं
दुनिया को साथ देना होगा आतंकवाद नष्ट करने में
अमेरिका हमारा बाप नहीं जो आज्ञा लें कोई काम करने में
संसार का आतंक नष्ट करें, पाकिस्तान ऐसा साहकार नहीं
आतंकवादी भारत में आज ये पहली बार नहीं...


अब जागना ज़रूरी है


[मुद्द्त हुई अंधेरे में, कोई रौशनी का दिया ना मिला
शहीद
हुआ हर हिन्दुस्तानी, रोता है उसे क्या मिला]



[करमबीर पंवार]


आपको ये बताने की कोई जरूरत नही की मै इस बहस का अंग बन चुका हूँ चाहकर भी।

ये कुछ पंक्ति मेरे दिल के जख्म की गहरी वेदना को कंही ने कंही व्यक्त
करती है। आज हम गर्व से कहते है कि आजाद है यहाँ लोगो की, लोगो के लिए,
लोगो के द्वारा चुनी हुई सरकार है। लेकिन क्या ये सरकार उन उम्मीदों को
पुरा कर पा रही है, क्या ये सरकार हमारी चुनी हुई है भी या नही ?

क्योंकि आज़ादी के साठ बरस बाद भी हम उस एक खता की सज़ा भुगत रहे जो हमने
नही की बल्कि उन चंद लोगो ने की जो हमारे रहनुमा थे या जिन्हें हम ने
अपने आदर्श नायको में शामिल कर रखा था। ये वो लोगो ही थे जिन्होंने युग
पुरूष गाँधी को भी राजनेतिक रूप से अलग-थलग कर दिया और वो सब होने लगा जो
वो चाहते थे।

आज भी पीढी दर पीढी उन्ही लोगो का राज है वो राजा न होकर भी राजा बन गए
है और उनके आने - जाने पर उनकी सुरक्षा के कारणों से आम आदमी को कुछ समय
तक गुलाम बना दिया जाता है व्यवस्था का।
क्या हम लोगो के पास राजनेतिक शक्ति नही जो हम बार -बार उन्ही लोगो को
चुनकर सरकार बनाने के लिए भेज देते है। ये अक्सर उन लोगो द्वारा बोले जाने
वाला झूठ है जिसको शक्ल हम और आप ही मिलकर देते है वास्तव मै न तो वो
ईमानदारी के साठ चुनाव चाहते है और न ही हम चुनाव रुपी झूठ का नकाब उतार
पाए है क्युकी जब तक हम सब मिलकर सही बुरे की पहचान करना नही जान जाते है
तब तक हमे ऐशे ही बरगलाया जाएगा कभी पीढी दर पीढी की सरपरस्ती के नाम पर

तो
कभी जात -पात और धर्म के नाम पर।
ऐशा भी होता ,वैशा भी होता - जैसा भी होता
अच्छा होता है और अच्छे के लिए होता है

क्योंकि हम सब कुछ नही करेंगे और हमारी लाचार गूंगी -बहरी स्वार्थो में
गहराई तक उतरी सरकार भी कुछ नही करेगी क्योंकि तो कुछ करना ही नही
चाहती अगर वो कुछ करेगी की तो दुनिया बरबाद नही हो जायेगी?
सरकार कम से कम एक साथ लाखो -करोडो को बचा ही रही है चाहे सैकडो यु ही मरते रहे
जय हिंद न कहो मेरे भाई
क्योंकि हिंद का सर तो वर्षो पहले कट गया
जब इस देश के दो टुकड़े हमने कर लिए
अब ज़ख्म है तो रिस्ता ही रहेगा खून हिन्दुस्तान का


--
जागो वीर पुत्र जागो
--

लेखक समाज सेवा से जुड़े हैं व् "ग्लोबल रामराज्य मल्टीवर्सिटी व्यावसायिक प्रशिक्षण केन्द्र" के निदेशक हैं।

दहशतगर्द


[
सखी सिंह]
---
सुना है वो मुस्लिम है
जिसके बनाए आग के गोले ने
सेकड़ों इंसानो को निगल लिया
उनमें किसकी क्या जाति थी
किसी को नही है पता
न ही उसको पता है कि उसने
किस किस जाति के इंसानों की जान ली
पता है सबको बस इतना भर
हर तरफ लाशों का हुज़ूम
बिखरे पड़े मानव अंग
खून ही खून और माँस के लोथडे
कोई इन सबको कैसे जुदा कर पायेगा
जाति के हिसाब से इनको बाँट पाएगा
यहाँ किसी को क्या पता है ये कि
कौन सा अंग किस जाति के इंसान का है
कितना खून या किस किस जगह फैला खून
किस जाति का है, कौन सा माँस का लोथड़ा
किस जाति के इंसान के शरीर से जुदा हुआ
या ये जान पाएगा की जुदा हुआ कौन सा हाथ
खुदा की इबादत में उठता था
या भगवान के आगे जुड़ता था
या फिर चर्च में जाकर ईशा की प्रार्थना करता था
यही हाल उन पैरों का है
जो मंदिर, मस्जिद, चर्च या गुरुद्वारे जाकर
अपने अपने पूज्य को पूजते थे
या उनकी प्रार्थना में जाकर शामिल होते थे
यहाँ सब छिन्न भिन्न हुआ पड़ा है
यहाँ बस खून है सबका जो एक है
मानव अंग हैं जिन्हे जाति में बाँटना
मुश्किल ही नही बल्कि नामुमकिन है
फिर हम कैसे कहें जिसने ये किया
वो एक मुसलमान है
वो तो एक दहशतगर्द है जिसका मकसद है
हमारा अमन चैन छीन दहशत फैलाना
मानवता का खून कर इंसानों को तड़पाना
वो तो ये भी नहीं जानता की खून का रंग क्या है
क्यों की उसका खून तो स्याह है
स्याह खून से वफ़ादारी की उमीद कैसे करें
हर रंग मिलके बनता है ये स्याह रंग
ऐसे ही हर धरम का खून बहा कर
उसका खून स्याह हो गया
उसमें न इंसानियत है न वो भाई बेटा या बाप है
वो तो एक दहशतगर्द है
जो मानवता पर लगा अभिशाप है
--

लेखिका की वेबसाईट: महकते पल

मंगलवार, 27 जनवरी 2009

आतंकवाद और हम









[शिमला
से प्रकाश बादल]
मत पूछो क्या है हाल शहर में।
ज़िन्दगी हुई है बवाल शहर में।

कुछ लोग तो हैं बिल्कुल लुटे हुए,
कुछ हैं माला-माल शहर में।

झुलसी लाशों की बू हर तरफ,
कौन रखे नाक पर रूमाल शहर में।

चोर,लुटेरे, डाकू और आतंकवादी,
सब नेताओं के दलाल शहर में।

भौंकते इंसानों को देखकर,
की कुत्तों ने हड़ताल शहर में।

मुहब्बत के मकां ढहने लगे,
मज़हब का आया भूंचाल शहर में।

बिना घूंस के मिले नौकरी,
ये उठता ही नहीं सवाल शहर में ।
--


युवा प्रवृति और आतंकवाद

बिहार से
[
कंचन कुमार]

मनुष्य स्वभावत: ‘शान्ति प्रिय प्राणी है। फिर वे कौन से कारण हैं, जो मानव को ‘शान्ति विरोधी आतंकवादी बना देता है। इसके जवाब खोजे तो अलग-अलग विशेषज्ञों के अलग-अलग मत होंगे। मनोविज्ञान की द्रष्टि से मानव जब अपनी क्षमताओं का सही सदुपयोग नहीं करता तो वे अपनी ‘ाक्ति गलत दि’ाा में नियोजित करने लगता है। जिसका उदे’य अपने मन अनुसार स्वरूप पैदा करना होता है। ऐसा करने वाले व्यक्ति के निजी या किसी खास संस्था के स्वार्थ होता है। जिसमें सार्वभौमिक दृ”िट का अभाव होता है।

जिस तरह से अहमबाद, जयपुर, लखनÅ, बनारस, दिल्ली और बम्बई जैसे ‘ाहरों पर आतंकवाद का नंगा नाच दिखने को मिला। इसे देखकर मानवता की तबाही ही कहा जायेगा। इसमें कोई ‘ाक नहीं कि आज बढ़ते आतंकवाद की घटना के बाद, ‘ाासक, प्र’ाासन, और समाज में आतंकवादी गतिविधियों के खिलाफ लोहा लेने का भाव बढ़ा है। लेकिन दिन प्रति दिन आतंकवाद अपने स्वरूप बदल-बदल कर सामने आने लगे है। तब यह सवाल है कि आतंकवाद क्यांे, कहां, कब, कैसे और किसके द्वारा बढ़ता पनपता है। अगर हम आतंकवादी बनने वाले व्यक्ति और संगठन के कारणों पर नजर डाले, तब जाकर आतंकवाद के मूल में हम पहुँच सकते है।

आतंकवाद का ‘ाुरूआती कदम दह’ात, भय और क्रोध से होता है। इसका जन्म परिवार, समाज, रा”ट्र और संसार में अपने को श्रे”ठ या ‘ाक्ति’ााली दिखाने की चाहत से होती है। इसका एक पहलू यह है कि जब व्यक्ति या समाज भावना और संवेदना हीन हो जाता है। तब दह’ात, भय, क्रोध और रक्त-रंजि’ा का सहारा लेता है। कोई व्यक्ति या संगठन, समाज के सामने अपनी पहचान बनाने या बढ़ाने में असफल होते हैं, तब हिंसा, भ्र”टाचार, चरित्रविहीन और अमानवीय रास्तों का सहारा लेता हैं।

जब से दे’ा आध्यात्मिक, राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक और वैज्ञानिक दृ”िट से वि’व मंच पर अपना स्थान बनाया है, तब से दे’ा के अन्दर और बाहर के कई संगठन अपने को विफल और अनदेखा महसुस करने लगे है। और समाज के सामने अपनी उपस्थिती और ‘ाक्ति’ााली स्वरूप प्रस्तुत करने के लिए हिंसक और अमानवीय कदम उठाने लगे है। ऐसे कदम उठाने वाले खुद को किसी संगठन से जोड़कर अपने कार्यों को अंजाम देते है। लेकिन उनके निजी स्वार्थ की अधिकता के कारण समाज के भाव-संवेदनहीन व्यक्तियों को किसी प्रकार जोड़ते है या जुड़ने के लिए मजबूर कर पाते हैं।

आज तक के पकड़े गये आतंकवादियों के मनोविज्ञान से पता लगता है कि अपने भावना और संवेदना को न प्रकट करने के कारण ही व्यक्ति प’ाुवृत्ति जैसे कार्य को अंजाम देने के लिए तैयार होतें है। आतंकवाद के अतीत से अब तक की खोज से पता लगता है, न के बराबर ही कवि, साहित्यकार, संगीतकार, गीतकार या कलाप्रेमी आतंकवादी थे। इससे पु”िट होती है कि संवेदना और भावना का प्रकट करने का स’ाक्त माध्यम कला है। कला जो इंसान में करूणा, दया के साथ भाव-संवेदना की गंगोत्री निरंतर प्रवाहित करने में मददकार होती है।

प्राचीन से अब तक के कला प्रेम के अलग-अलग कलायोंे से यहीं लगता है, जब मनु”य में अन्दर का मन बिखराव के अनुसार अपनी अलग-अलग कला का जन्म देते है। मन वेदना से ग्रस्त व्यक्ति गिटार बजाकर, गीत गाकर, साहित्य रच कर, चित्र बनाकर अपने अन्दर का भाव प्रकट करने वाला व्यक्ति कभी आतंकवाद जैसा रास्ता नहीं अपना सकता। एक समय था हमारी ’िाक्षा में कला का एक जरूरी अंग माना जाता था। आज की बजारू ’िाक्षा ने इंसान में इंसानियत जिन्दा रखने वाले विधा को लुप्त कर दिया। यही से मानव से मानवता का पतन होने के सिलसिले में तेजी आयी।

अत: आज आतंकवाद से मुक्त समाज बनाने के लिए जीवन साधना की जरूरत है। इसके लिए व्यक्ति की प्रकृति, स्वभाव और रूचि के अनुसार कला चयन करनी की आव’यकता है। इसके माध्यम परिवार, समाज और गुरूजन हो सकते है। जो बाल अवस्था मंे मन भाव को पढ़कर उसके रूचिनुसार कला बढ़ाने में सहयोग दे। आगे चलकर कलायुक्त बालक ही करूणा, दया और मानवहितकारी नागरिक बन सकंेगा। तभी आतंकमुक्ति समाज और रा”ट्र का निर्माण होगा। जब तक कुंठित और मनोरोगी से पीड़ीत व्यक्ति समाज में रहेंगे तब तक आतंवादमुक्ति रा”ट्र नहीं हो सकता है। आज से हम सब जाति, क्षेत्र, भा”ाा और संप्रदाय भाव से Åपर उठकर इसमें अपना सहयोग दे। जहां कहीं भी मन के हारे व्यक्ति दिखे उसे सहयोग और सद्भाव से आगे बढायें।

लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं
-मेल: krkanchan@gmail.com
मोबाइल- +९१-९६५०३ 41235

वक़्त के ज़ख्म-ओ-ज़ज्बात: मेरी आवाज़ सुनो

[मुंबई के आतंकी हमले से विचलित हुईं लेखिका महिला ("शमा") जी का यह लेख "मेरी आवाज़ सुनो!" आपके लिए जो शायद आपके अन्दर उस भाव को उस बेदना को महसूस करा सके, जिन्हें लोग जी रहे हैं. साथ ही इक जोश भर सके..आतंकवाद के ख़िलाफ़...]


[मेरी आवाज़ सुनो ]

बहस
अभी भी जारी है...यकीन करें आपका योगदान और बोलना कतई जाया न जायेगा.
आज अपनी श्रृंखला छोड़ एक पुकार लेके आयी हूँ...एक पीडामे डूबी ललकार सुनाना चाहती हूँ...एक आवाहन है.....अपनी आवाज़ उठाओ....कुछ मिलके कहें, एकही आवाज़ मे, कुछ करें कि आतंकवादी ये न समझे, उनकी तरह हमभी कायर हैं.....अपनेआपको बचाके रख रहे हैं...और वो मुट्ठीभर लोग तबाही मचा रहे हैं.....हम तमाशबीनोंकी तरह अपनीही बरबादीका नज़ारा देख रहे हैं !एक भीनी, मधुर पर सशक्त झंकार उठे....अपने मनकी बीनासे...पता चले इन दरिन्दोंको की हमारी एकता अखंड है...हमारे दिलके तार जुड़े हुए हैं....!
एक चीत्कार मेरे मनसे उठ रही है....हम क्यों खामोश हैं ? क्यों हाथ पे हाथ धरे बैठे हैं ? कहाँ गयी हमारी वेदनाके प्रती संवेदनशीलता??? " आईये हाथ उठाएँ हमभी, हम जिन्हें रस्मों दुआ याद नही, रस्मे मुहोब्बतके सिवा, कोई बुत कोई ख़ुदा याद नही..."!अपनी तड़प को मै कैसे दूर दूरतक फैलाऊँ ? ?क्या हम अपाहिज बन गए हैं ? कोई जोश नही बचा हमारे अन्दर ? कुछ रोज़ समाचार देखके और फिर हर आतंकवादी हमलेको हम इतिहासमे दाल देते हैं....भूल जाते हैं...वो भयावह दिन एक तारीख बनके रह जाते हैं ?अगले हमले तक हम चुपचाप समाचार पत्र पढ़ते रहते हैं या टीवी पे देखते रहते हैं...आपसमे सिर्फ़ इतना कह देते हैं, "बोहोत बुरा हुआ...हो रहा...पता नही अपना देश कहाँ जा रहा है? किस और बढ़ रहा है या डूब रहा है?" अरे हमही तो इसके खेवनहार हैं !
अपनी माता अपने शहीदोंके, अपने लड़लोंके खूनसे भीग रही है.....और हम केवल देख रहे हैं या सब कुछ अनदेखा कर रहे हैं, ये कहके कि क्या किया जा सकता है...? हमारी माँ को हम छोड़ कौन संभालेगा? कहाँ है हमारा तथाकथित भाईचारा ? देशका एक हिस्सा लहुलुहान हो रहा है और हम अपने अपने घरोंमे सुरक्षित बैठे हैं ?

कल देर रात, कुछ ११/३० के करीब एक दोस्तका फ़ोन आया...उसने कहा: तुम्हारी तरफ़ तो सब ठीक ठाक हैना ? कोई दंगा फसाद तो नही?
मै :" ऐसा क्यों पूछ रहे हैं आप ? कहीँ कुछ फ़साद हुआ है क्या?"
वो :" कमाल है ! तुमने समाचार नही देखे?"
मै :" नही तो....!
वो : " मुम्बईमे ज़बरदस्त बम धमाके हुए जा रहे हैं...अबके निशानेपे दक्षिण मुंबई है....."
मैंने फ़ोन काट दिया और टीवी चला दिया...समाचार जारी थे...धमाकोंकी संख्या बढ़ती जा रही थी ...घायलोंकी संख्यामे इज़ाफा होता जा रहा था, मरनेवालों की तादात बढ़ती जा रही थी....तैनात पोलिस करमी और उनका साक्षात्कार लेनेके लिए बेताब हो रहे अलग, अलग न्यूज़ चॅनल के नुमाइंदे...पूछा जा रहा था रघुवंशीसे( जिन्हें मै बरसों से जानती हूँ...एक बेहद नेक और कर्तव्यतत्पर पोलिस अफसर कहलाते हैं। वर्दीमे खड़े )...उनसे जवाबदेही माँगी जा रही थी," पोलिस को कोई ख़बर नही थी...?"
मुझे लगा काश कोई उन वर्दी धारी सिपहियोंको शुभकामनायें तो देता....उनके बच्चों, माँ ओं तथा अन्य परिवारवालोंका इस माध्यमसे धाडस बंधाता...! किसीकेभी मन या दिमाग़मे ये बात नही आयी॥? इसे संवेदन हीनता न कहें तो और क्या कहा जा सकता है ? उन्हें मरनेके लिए ही तो तनख्वाह दी जा रही है! कोई हमपे एहसान कर रहें हैं क्या??कहीँ ये बात तो किसीके दिमागमे नही आयी? गर आयी हो तो उससे ज़्यादा स्वार्थी, निर्दयी और कोई हो नही सकता ये तो तय है।
गर अंदेसा होता कि कहाँ और कैसे हमला होगा तो क्या महकमा ख़ामोश रहता ?सन १९८१/८२मे श्री. धरमवीर नामक, एक ICS अफसरने, नेशनल पोलिस कमिशन के तेहेत कई सुझाव पेश किए थे....पुलिस खातेकी बेह्तरीके लिए, कार्यक्षमता बढानेके लिए कुछ क़ानून लागू करनेके बारेमे, हालिया क़ानून मे बदलाव लाना ज़रूरी बताया था। बड़े उपयुक्त सुझाव थे वो। पर हमारी किसी सरकार ने उस कमिशन के सुझावोंपे गौर करनेकी कोई तकलीफ़ नही उठाई !सुरक्षा कर्मियोंके हाथ बाँधे रखे, आतंकवादियोंके पास पुलिसवालोंके बनिस्बत कई गुना ज़्यादा उम्दा शत्र होते, वो गाडीमे बैठ फुर्र हो जाते, जबकि कांस्टेबल तो छोडो , पुलिस निरीक्षक के पासभी स्कूटर नही होती ! २/३ साल पहलेतक जब मोबाईल फ़ोन आम हो चुके थे, पुलिस असफरोंको तक नही मुहैय्या थे, सामान्य कांस्टेबल की तो बात छोडो ! जब मुहैय्या कराये तब शुरुमे केवल मुम्बईके पुलिस कमिशनर के पास और डीजीपी के पास, सरकारकी तरफ़ से मोबाइल फोन दिए गए। एक कांस्टबल की कुछ समय पूर्व तक तनख्वाह थी १५००/-.भारतीय सेनाके जवानोंको रोजाना मुफ्त राशन मिलता है...घर चाहे जहाँ तबादला हो मुहैय्या करायाही जाता है। बिजलीका बिल कुछ साल पहलेतक सिर्फ़ रु. ३५/- । अमर्यादित इस्तेमाल। बेहतरीन अस्पताल सुविधा, बच्चों के लिए सेंट्रल स्कूल, आर्मी कैंटीन मे सारी चीज़ें आधेसे ज़्यादा कम दाम मे। यक़ीनन ज़्यादातर लोग इस बातसे अनभिद्न्य होंगे कि देशको स्वाधीनता प्राप्त होनेके पश्च्यात आजतलक आर्मीके बनिसबत ,पुलिस वालोंकी अपने कर्तव्य पे तैनात रहते हुए, शहीद होनेकी संख्या १० गुनासे ज़्यादा है !आजके दिन महानगरपलिकाके झाडू लगानेवालेको रु.१२,०००/- माह तनख्वाह है और जिसके जिम्मे हम अपनी अंतर्गत सुरक्षा सौंपते हैं, उसे आजके ज़मानेमे तनख्वाह बढ़के मिलने लगी केवल रु.४,०००/- प्रति माह ! क्यों इतना अन्तर है ? क्या सरहद्पे जान खोनेवालाही सिर्फ़ शहीद कहलायेगा ? आए दिन नक्षल्वादी हमलों मे सैंकडो पुलिस कर्मचारी मारे जाते हैं, उनकी मौत शहादत मे शुमार नही?उनके अस्प्ताल्की सुविधा नही। नही बछोंके स्कूल के बारेमे किसीने सोचा। कई बार २४, २४ घंटे अपनी ड्यूटी पे तैनात रहनेवाले व्यक्तीको क्या अपने बच्चों की , अपने बीमार, बूढे माँ बापकी चिंता नही होती होगी?उनके बच्चे नही पढ़ लिख सकते अच्छी स्कूलों मे ?
मै समाचार देखते जा रही थी। कई पहचाने और अज़ीज़ चेहरे वर्दीमे तैनात, दौड़ भाग करते हुए नज़र आ रहे थे...नज़र आ रहे थे हेमंत करकरे, अशोक आमटे, दाते...सब...इन सभीके साथ हमारे बड़े करीबी सम्बन्ध रह चुके हैं। महाराष्ट्र पुलिस मेह्कमेमे नेक तथा कर्तव्य परायण अफ्सरोंमे इनकी गिनती होती है। उस व्यस्ततामेभी वे लोग किसी न किसी तरह अख़बार या समाचार चैनलों के नुमाइंदोंको जवाब दे रहे थे। अपनी जानकी बाज़ी लगा दी गयी थी। दुश्मन कायरतासे छुपके हमला कर रहा था, जबकि सब वर्दीधारी एकदम खुलेमे खड़े थे, किसी इमारतकी आड्मे नही...दनादन होते बम विस्फोट....दागी जा रही गोलियाँ...मै मनही मन उन लोगोंकी सलामतीके लिए दुआ करती रही....किसीभी वार्ताहरने इन लोगोंके लिए कोई शुभकामना नही की...उनकी सलामतीके लिए दुआ करें, ऐसा दर्शकों को आवाहन नही दिया!
सोचो तो ज़रा...इन सबके माँ बाप बेहेन भाई और पत्निया ये खौफनाक मंज़र देख रही होंगी...! किसीको क्या पता कि अगली गोली किसका नाम लिखवाके आयेगी?? किस दिशासे आयेगी...सरहद्पे लड़नेवालोंको दुश्मनका पता होता है कि वो बाहरवाला है, दूसरे देशका है...लेकिन अंतर्गत सुरक्षा कर्मियोंको कहाँसे हमला बोला जाएगा ख़बर ही नही होती..!

मुझे याद आ रहा था वो हेमंत करकरे जब उसने नयी नयी नौकरी जोइन की थी। हम औरंगाबादमे थे। याद है उसकी पत्नी...थोड़ी बौखलाई हुई....याद है नासिक मे प्रशिक्षण लेनेवाला अशोक और दातेभी...वैसे तो बोहोत चेहरे आँखोंकी आगेसे गुज़रते जा रहे थे। वो ज़माने याद आ रहे थे...बड़े मनसे मै हेमंतकी दुल्हनको पाक कला सिखाती थी( वैसे बोहोतसे अफसरों की पत्नियोंको मैंने सिखाया है.. और बोहोत सारी चीजोंसे अवगत कराया है। खैर)औपचारिक कार्यक्रमोंका आयोजन करना, बगीचों की रचना, मेज़ लगना, आदी, आदी....पुलिस अकादमी मे प्रशिक्षण पानेवाले लड़कोंको साथ लेके पूरी, पूरी अकादेमी की ( ४०० एकरमे स्थित) landscaping मैंने की थी....!ये सारे मुझसे बेहद इज्ज़त और प्यारसे पेश आते...गर कहूँ कि तक़रीबन मुझे पूजनीय बना रखा था तो ग़लत नही होगा...बेहद adore करते ।
इन लोगोंको मै हमेशा अपने घर भोजनपे बुला लिया करती। एक परिवारकी तरह हम रहते। तबादलों के वक़्त जब भी बिछड़ते तो नम आँखों से, फिर कहीँ साथ होनेकी तमन्ना रखते हुए।
रातके कुछ डेढ़ बजेतक मै समाचार देखती रही...फिर मुझसे सब असहनीय हो गया। मैंने बंद कर दिया टीवी । पर सुबह ५ बजेतक नींद नही ई....कैसे, कैसे ख्याल आते गए...मन कहता रहा, तुझे कुछ तो करना चाहिए...कुछ तो...

सुबह १० बजेके करीब मुम्बईसे एक फ़ोन आया, किसी दोस्तका। उसने कहा: "जानती हो न क्या हुआ?"
मै :"हाँ...कल देर रात तक समाचार देख रही थी...बेहद पीड़ा हो रही है..मुट्ठीभर लोग पूरे देशमे आतंक फैलाते हैं और..."
वो:" नही मै इस जानकारीके बारेमे नही कह रहा....."
मै :" तो?"
वो :" दाते बुरी तरहसे घायल है और...और...हेमंत और अशोक मारे गए...औरभी न जाने कितने..."
दिलसे एक गहरी आह निकली...चंद घंटों पहले मैंने और इन लोगोंके घरवालोने चिंतित चेहरोंसे इन्हें देखा होगा....देखते जा रहे होंगे...और उनकी आँखोंके सामने उनके अज़ीज़ मारे गए.....बच्चों ने अपनी आँखोंसे पिताको दम तोड़ते देखा...पत्नी ने पतीको मरते देखा...माँओं ने , पिताने,अपनी औलादको शहीद होते देखा...बहनों ने भाईको...किसी भाई ने अपने भाईको...दोस्तों ने अपने दोस्तको जान गँवाते देखा....! ये मंज़र कभी वो आँखें भुला पाएँगी??
मै हैरान हूँ...परेशान हूँ, दिमाग़ काम नही कर रहा...असहाय-सि बैठी हूँ.....इक सदा निकल रही दिलसे.....कोई है कहीँ पे जो मेरा साथ देगा ये पैगाम घर घर पोहचाने के लिए??हमारे घरको जब हमही हर बलासे महफूज़ रखना पड़ता है तो, हमारे देशको भी हमेही महफूज़ बनाना होगा....सारे मासूम जो मरे गए, जो अपने प्रियजनोको बिलखता छोड़ गए, उनके लिए और उनके प्रियाजनोको दुआ देना चाहती हूँ...श्रद्धा सुमन अर्जित करना चाहती हूँ...साथ कुछ कर गुज़रनेका वादाभी करना चाहती हूँ....!या मेरे ईश्वर, मेरे अल्लाह! मुझे इस कामके लिए शक्ती देना।

लेखिका का ब्लॉग: http://thelightbyalonelypath.blogspot.com/

एक सोच आतंकवाद पर

[बबिता पंवार]

आज हम जब भी आतंकवाद की बात करते है तो उसे इस्लामी आतंकवाद से जोड़कर देखते है या फ़िर हम उसे
आतंकवाद कहते है जिसे हमारे राजनेता आतंकवाद कहते है आज भी रास्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल ने इस और इशारा किया है की हमारा पडोशी देश आतंकवाद को शय दे रहा है लकिन वो ये सब जान कर भी कुछ नही कर सकते क्युकी उनको अपनी जनता यानि हम सभी भारतीयों पर यकीन नही है की कल अगर कोई सरकार युद्ध जितना बडा फ़ैसला ले तो भी क्या जनता साथ देगी और यदि देगी भी तो युद्ध की विभीषिका तो सभी जानते है की हर तरफ वीराने ही होंगे तो क्या है आतंकवाद का हल और क्या है आतंकवाद।

इस पर दुबारा गहन रूप से सोचना होगा क्युकी यदि हम सवयम से डरे हुए है तो क्या कभी इस आतंक से मुक्त हो सकते है नही कभी नही पहले हमे यह निश्चय करना होगा की हम आतकवाद को ख़त्म करने के लिए क्या बलिदान कर सकते है और उसके बाद ही इस आतंकवाद को जो हमे और किसी से नही बल्कि अपनी ही गलतियों की सज़ा भुगतनी होगी क्युकी आज हम सबसे पहले पकिस्तान पर उगली उठाते है जो कही बहार से नही आए बल्कि भारत के दुकडे कर बना है और वो हमसे उस बात का बदला ले रहे है की आख़िर क्यों कुछ नेता हम सब के कर्ता- दर्ता है क्यों नही जर्मनी की तरह भारत एक हो सकता।

आपको मालूम नही है या जानकर भी अनजान बने रहते हो .भारत का विभाजन बिर्टेन के देन है और हर ताकतवर देश (अमेरिका ) ये चाहता है की उसका गुलाम कभी भी आजाद न हो आम नागरिक जो आराम से रहेगा तो ताकतवर लोगो को कौन पूछेगा ये सब हक की लडाई है जब तक दुनिया मई गरीबी होगी ये ज़ंग नए - नए नाम से होती रहेगी।

शायद मै गलत हूँ लकिन क्या ये कारण काफी नही मेरी इस बात के सहमती के लिए
जय करो गरीबो के नाथ की जय करो हिन्दुस्तान की।

  © Blogger template 'Solitude' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP